Sunday, 25 February 2024
Donate: eazypay.579911183@icici

वाल्मीकि रामायण के 9 श्लोक जिनका मंत्र-समान प्रयोग हो सकता है

वाल्मीकि रामायण के इन श्लोकों में किसी पात्र ने श्रीराम की शक्ति का आवाहन किया, कहीं माता सीता की महिमा बताई, संसार को परिभाषित किया या प्रभु ने स्वयं जीवनमूल्य सिखाए

वाल्मीकि रामायण में ब्रह्मर्षि विश्वामित्र ने अयोध्या के प्रासाद से नए-नए आए श्रीराम को उनके आश्रम में प्रवास के प्रथम प्रातःकल ऐसे पुकार कर नींद से जगाया था —

कौसल्या सुप्रजा राम पूर्वा सन्ध्या प्रवर्तते। उत्तिष्ठ नरशार्दूल कर्तव्यं दैवं आह्निकम्॥

I – 23 – 2

अर्थात् “हे कौशल्या के उत्कृष्ट पुत्र, पूर्व दिशा से प्रभात का उदय हो रहा है। उठो नर व्याघ्र, दैनिक कर्तव्य का निर्वहन करना होगा।”

जब मंत्री सुमंत्र ने रानी कैकेयी और राजा दशरथ का संदेश श्रीराम को दिया कि वे उन दोनों से रानी के स्थान पर मिलें,

यश्च रामं न पश्येत्तु यं च रामो न पश्यति। निन्दितः सर्वलोकेषु स्वात्माप्येनं विगर्हते॥

II – 17 – 14

और जो व्यक्ति राम को देख नहीं सकता तथा राम जिस व्यक्ति को नहीं देखते, वह सभी लोकों में निंदनीय है और उसका स्वयं भी उसकी भर्त्सना करता है।

जिस समय राम, सीता और लक्ष्मण वन के लिए प्रस्थान कर रहे थे, उस समय रानी सुमित्रा का पुत्र लक्ष्मण को परामर्श —

रामं दशरथं विद्धि मां विद्धि जनकात्मजां। अयोध्यां अटवीं विद्धि गच्छ तात यथासुखं॥

II – 40 – 9

अर्थात् “राम को पिता दशरथ के समान और सीता को मेरी (अपनी माँ) की तरह देखना। जिस वन के लिए तुम प्रस्थान कर रहे हो, वह अयोध्या ही है, ऐसा मानकर सुखी-सुखी जाओ।”

श्रीराम इन शब्दों के साथ भारत को अपनी ‘गीता’ का ज्ञान देना आरंभ करते हैं जो अगले 27 श्लोकों तक चलता है —

नात्मनः कामकारोऽस्ति पुरुषोऽयं अनीश्वरः।इतश्चेतरतश्चैनं कृतान्तः परिकर्षति॥

II -105 – 15

अर्थात् “अनुशासनहीन जो व्यक्ति अपनी इच्छा की पूर्ति नहीं कर पाता, उसे नियति इधर-उधर भटकाती है।”

जब रावण ने मारीच को आदेश दिया कि वह स्वर्ण हिरण का रूप धारण कर पंचवटी जाए और सीता को ललचाये तो मारीच ने रावण को उपदेश दिया कि

सुलभाः पुरुषाः राजन् सततं प्रियवादिनः। अप्रियस्य तु पथ्यस्य वक्ता श्रोता च दुर्लभः॥

III – 37 – 2

हे राजन, ऐसे लोग जो मीठा बोले, उन्हें सुनना सदैव सरल होता है, परंतु ऐसा व्यक्ति दुर्लभ होता है जो कटु एवं सम्पूर्ण बात (अर्थात् सत्य) बोल व सुन सके।

जब सुग्रीव राम को सीता के ऊपरी वस्त्र और आभूषण दिखाते हैं जो अपहृत माता ने ऋष्यमुख पर्वत के ऊपर से उड़ते रावण के पुष्पक विमान से फेंके थे, तब राम बड़ी पीड़ा के साथ लक्ष्मण से कहते हैं कि देखो, लक्ष्मण, इन वस्त्रों और आभूषणों को ध्यान से देखो; ये नर्म हरी घास पर गिरे होंगे, ये वैसे ही दिखते हैं जैसे वे तब दिखते थे जब वे सीता के शरीर पर थे। तो लक्ष्मण कहते हैं कि

नाहं जानामि केयूरे नाहं जानामि कुण्डले। नूपुरेत्वभिजानामि नित्यं पादाभिवन्दनात्॥

IV – 6 -22

वाल्मीकि रामायण में लक्ष्मण के इस कथन से यह स्पष्ट होता है कि उन्होंने माता सुमित्रा की आज्ञा के पालन से भी आगे बढ़कर भाभी सीता को माँ ही नहीं बल्कि देवी का दर्जा दिया और इसलिए सीता के पैरों से ऊपर शरीर के अन्य भाग को लक्ष्मण ने कभी देखा ही नहीं। श्लोक का अर्थ है “मैं कंगन के बारे में नहीं जानता और मैं बालियों के बारे में भी नहीं जानता। मेरी दृष्टि कभी उनके पैरों से ऊपर गई ही नहीं; मैं केवल उनकी पायल ही पहचान सकता हूँ।”

परम सांसारिक सुख की प्राप्ति कैसी हो सकती है? सीता माता को लंकापुरी में ढूंढते हुए हनुमान् नगरी के ऐश्वर्य पर विस्मय प्रकट करते हुए कहते हैं कि

या हि वैश्रवणे लक्ष्मीः या चेन्द्रे हरिवाहने। या च राज्ञः कुबेरस्य यमस्य वरुणस्य च॥
स्वर्गोऽयं देवलोकोऽयं इन्द्रस्येयं पुरी भवेत्। सिद्धिर्वेयं परा हि स्यात् इत्यमन्यत मारुतिः॥

IX: 8, 9 & 31

अर्थात् “कुबेर के पास जो भी धन है, हरे घोड़ों वाले इंद्र के पास जो भी धन है, यम और वरुण के लिए भी जिसे प्राप्त करना सौभाग्य का विषय है, वह सब समृद्धि यहाँ है। यह तो स्वर्ग है! यह वास्तव में देवताओं का निवास है! यह इंद्र की नगरी है. यह एक महान तपस्या का ही अंतिम परिणाम हो सकता है।” कहने का तात्पर्य यह है कि यदि किसी व्यक्ति को सभी सांसारिक सुख का भोग करना हो तो वह इन श्लोकों का मनन करे (हालांकि इससे संयमहीन व्यक्ति धर्ममार्ग से च्युत हो सकता है जैसे रावण अपने परम ज्ञान के होते हुए भी हुआ था)।

जब विभीषण अपने चार साथियों के साथ श्रीराम के शरण में आते हैं, तब प्रभु कहते हैं कि

सकृदेव प्रपन्नाय तवास्मीति च याचते। अभयं सर्वभूतेभ्यो ददाम्येतद् व्रतं मम॥

VI-18-33

अर्थात् “जो भी प्राणी मेरे पास आता है और कहता है कि वह मेरा है, मैं उसे सुरक्षा देता हूँ और जीवनभर यही मेरा व्रत रहता है। यह उन सभी लोगों के लिए राम का आश्वासन है जो उन पर पूरा भरोसा करते हैं।”

इंद्रजीत के साथ लंबे युद्ध के बाद इंद्रजीत को मारने वाला तीर छोड़ने से ठीक पहले लक्ष्मण की घोषणा की कि

धर्मात्मा सत्यसन्धश्च रामो दाशरथिर्यदि।पौरुषेचाप्रतिद्वन्द्वः शरैनं जहि रावणिम्॥

VI-90-70

अर्थात् “हे मेरे प्रिय बाण, यदि यह सत्य है कि दशरथ के पुत्र राम ने अपना मन केवल पुण्य पर केंद्रित किया है और यदि यह भी सत्य है कि वे सदैव अपना वचन निभाते हैं और यदि वे अपने कौशल में किसी से पीछे नहीं हैं तो इंद्रजीत को नष्ट कर दो।” इस श्लोक के मनन के साथ यह ध्यान में रखना आवश्यक है कि अधर्मी और विधर्मी इसे उद्धृत कर इसके साथ एक कुतर्क जोड़ देते हैं कि क्या कोई दुर्जन व्यक्ति भी इन शब्दों के साथ किसी सज्जन पुरुष पर वार करके उसकी हत्या करने में सफल हो सकता है? नहीं, केवल लक्ष्मण जैसा धार्मिक पुरुष ही इन शब्दों में राममंत्र की शक्ति समाहित कर किसी दुर्जन का वध कर सकता है।

संदर्भ सहित वाल्मीकि रामायण के श्लोक VI-90-70 की व्याख्या

केवल इस अहंकार को दूर करके ही हम अपने भीतर की आत्मा का अनुभव कर सकते हैं। इस अहंकार को नष्ट करना ताकि आत्मा अपनी महिमा से प्रकाशित हो, यही रामायण की कथा का उद्देश्य है।

परम आत्मा राम हैं। सबसे पहले वे हमारे भीतर निहित सभी अवांछनीय इच्छाओं को मारते हैं राक्षसी ताड़का का विनाश कर।

एक बार जब बुरे व्यसन नष्ट हो जाते हैं तो मन को कठोर अनुशासन में बांधना पड़ता है। इसका संकेत राम द्वारा शिव धनुष को तोड़ने से मिलता है। तब से व्यक्ति को इस भौतिक संसार के मामलों में अंतर्भुक्त होना पड़ता है।

प्रकृति की संगति के बिना किसी की भी जीवनयात्रा असंभव है। इसलिए राम देवी लक्ष्मी की माया शक्ति (प्रकृति) के अवतार सीता के साथ विवाह बंधन में बंध गए। यद्यपि इसका अर्थ भौतिक संसार की प्रत्येक क्रिया में शामिल होना है, व्यक्ति को इसे बिना आसक्ति के करना होगा; इस संलग्नता में आसक्ति रहित त्याग युक्त है। राम इस त्याग का उदाहरण उस मुकुट को त्यागने के अपने कार्य से देते हैं जो उन्हें कुछ समय पूर्व ही अर्पित किया गया था। यह महात्याग है जो पूरी कथा का मुख्यबिंदु है।

वहां से दंडक वन का पड़ाव आरंभ होता है। वन और कुछ नहीं बल्कि संसार है जिसे हमें पार करना है। संसार के इस जंगल का राजा दस सिरों वाला रावण है, दस सिर उन दस इंद्रियों को इंगित करते हैं जिनके द्वारा हम संसार के भाग बन जाते हैं। हम इस अपराधी का डटकर सामना नहीं कर पाते क्योंकि इसका गिरोह दूर-दूर तक फैला हुआ होता है। अतः हमें उससे आमने सामने भिड़ना होता है। इस प्रक्रिया में धीरे-धीरे उस राक्षस के अधीनस्थों को एक-एक करके परास्त करना होता है।

सबसे पहले काम, क्रोध, लोभ को दर्शाने वाले राक्षस खर, दूषण और त्रिशिरा का राम दंडक वन में विनाश करते हैं। फिर मारीच के रूप में मोह (या भ्रम) आता है।

फिर व्यक्ति को वाली रूपी अभेदभाव (अविवेक) को नष्ट करना होता है और विवेक (सुग्रीव) अर्थात् विवेक के साथ स्थायी मित्रता बनानी होती है।

फिर हमें हनुमान् के रूप में भक्ति का सबसे विश्वसनीय सखा मिल जाता है। वे वही हैं जो हमें हमारे शत्रु और उसके गढ़ को खोजने में मदद करते हैं। एक बार जब हम भक्ति का सहारा लेते हैं तो लंकारूपी हमारे भौतिक शरीर को अब जला देना पड़ता है। जीवित रहते हुए भी हमें इस शरीर या इसकी गतिविधियों से कोई लेना-देना नहीं होना चाहिए। लंकादहन का यही पाठ है।

तब हम विभीषण के रूप में उत्साह और लगन का सहारा लेते हैं। अब हम अज्ञान के सागर को पार करने वाले हैं; उससे पहले हम उस उत्साह को मुकुट पहनाते हैं जो अब हमारा है। यह है रावण की मृत्यु के उपरांत विभीषण को लंका का राजा बनाने की प्रतिश्रुति।

फिर हम अहंकार के संगियों को बारी बारी मारते हैं। पहले कुंभकर्ण के रूप में मद और फिर इंद्रजीत के रूप में मात्सर्य। अब हम जड़-शत्रु का सामना करने के लिए प्रस्तुत हैं।

अतः ‘धर्मात्मा सत्यसन्धश्च…’ श्लोक ईर्ष्या का नाश करने वाला है। यदि हम इस श्लोक को दोहराते रहते हैं, तो यह उन लोगों की ईर्ष्या को नष्ट कर देता है जो हमसे ईर्ष्या करते हैं और यह हमारे अंदर अन्य लोगों के प्रति जो भी ईर्ष्या है उसे भी नष्ट कर देता है!

Surajit Dasgupta
Surajit Dasguptahttps://swadharma.in
Surajit Dasgupta began his career as a banker with Citibank and then switched to journalism. He has worked with The Statesman, The Pioneer, Swarajya, Hindusthan Samachar, MyNation, etc and established his own media houses Sirf News and Swadharma. His professional career began in 1993. He is a mathematician by training and has acute interest in science and technology, linguistics and history. He is also a Sangeet Visharad.

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

So far

Related Articles