Sunday, 25 February 2024
Donate: eazypay.579911183@icici
HomeNewsएक मंदिर जहाँ चूहे का जूठन प्रसाद होता है, बीमार नहीं करता

एक मंदिर जहाँ चूहे का जूठन प्रसाद होता है, बीमार नहीं करता

इस मंदिर के अंदर हज़ारों चूहों के उत्पात और यहाँ तक कि स्थानीय लोगों द्वारा चूहों के साथ साझा किए गए भोजन के बावजूद कभी भी प्लेग या किसी अन्य बीमारी की कोई घटना सामने नहीं आई है

​श्री करणी माताजी मंदिर अद्वितीय और दुनिया में अपनी तरह का एकमात्र मंदिर है। कई मायनों में यह मंदिर मानव-पशु सह-अस्तित्व और सद्भाव का प्रतीक है। कुछ लोगों को अजीब लग सकता है कि यह एक ऐसा मंदिर हैं जहाँ चूहे खुलेआम और बेरोकटोक घूमते हैं और चढ़ावे का स्वाद मानव भक्तों से पहले लेते हैं, लेकिन कुछ के लिए श्री करणी माताजी में सशक्त आस्था हर प्रश्न का उत्तर है।

​आज जो करणी माता मंदिर दिखाई देता है, उसे 20वीं सदी की शुरुआत में महाराजा गंगा सिंह ने बनवाया था। ​

image 45

श्रद्धालु मानते हैं कि मंदिर में 25,000 से अधिक चूहे हैं जो चारण राजपूतों की पुण्य आत्माएँ हैं जिन्हें “कब्बा” के नाम से भी जाना जाता है। ​

image 46

यहाँ चूहों द्वारा आंशिक रूप से खाया गया प्रसाद पवित्र माना जाता है। ​

image 47

एक आश्चर्यजनक तथ्य यह है कि श्री करणी माता मंदिर के अंदर हज़ारों चूहों के उत्पात और यहाँ तक कि स्थानीय लोगों द्वारा चूहों के साथ साझा किए गए भोजन के बावजूद कभी भी प्लेग या किसी अन्य बीमारी की कोई घटना सामने नहीं आई है।​

image 48

एक किंवदंती यह है कि मंदिर में रहने वाले हज़ारों चूहे सैनिक थे जो युद्ध के मैदान को छोड़कर भाग गए थे। उन्हें सज़ा के रूप में मृत्युदंड मिला, लेकिन करणी माता की कृपा के कारण उन्हें बचा लिया गया और वे मंदिर में चूहों के रूप में रहने लगे। ​

image 49

एक अन्य किंवदंती यह है कि करणी माता के पुत्र लक्ष्मण एक कुएँ से पानी पीने के बाद गिर गए और उनकी मृत्यु हो गई। करणी माता ने मृत्यु के देवता यम से उन्हें पुनर्जीवित करने की प्रार्थना की। यम इस शर्त पर सहमत हुए कि करणी माता और उनके वंशज चूहों के रूप में पुनर्जन्म लेंगे। ​

image 50

उल्लेखनीय बात यह है कि करणी माता मंदिर के अंदर हज़ारों चूहे रहते हैं, लेकिन वे मंदिर के मुख्य द्वार से बाहर कभी नहीं निकलते। ​

image 51

​करणी माता मंदिर में यदि एक भी चूहा गलती से मर जाता है तो कहा जाता है कि उसके बदले ठोस सोने से बना उसी आकार का चूहा मंदिर को दान में दे कर प्रायश्चित्त करना चाहिए।

image 52

​करणी माता मंदिर में साल में दो बार नवरात्रि के दौरान मेला लगता है, एक बार मार्च या अप्रैल के दौरान और फिर सितंबर या अक्टूबर के दौरान। ​

image 53

राजस्थान में करणी माता को समर्पित कई मंदिर हैं, लेकिन देशनोक में स्थित मंदिर चूहों वाला एकमात्र मंदिर है। ​

image 54
Swadharma
Swadharmahttps://swadharma.in/
Swadharma is a one-stop web destination for everything Hindu. We will cover history, theology, literature and rituals of all sects of Hinduism one by one besides news of the state of the Hindu community worldwide through videos, podcasts, reports and articles.

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Expositions

Bhojshala battle begins: Hindu history dated CE 1000

A historical guide to Bhojshala in Dhar of Madhya Pradesh where Hindus have been reclaiming a Saraswati yajnashala from Muslims who turned it into a mosque

विष्णु मूर्ति जिसे म्लेच्छों से बचाने जलसमाधि दी गई

जब बहमनी सुल्तान ने यहाँ के मंदिर पर आक्रमण किया तो विष्णु मूर्ति एवं शिवलिंग को म्लेच्छों द्वारा खण्डित होने से बचाने के लिए इन्हें जलसमाधि दे दी गई

ज्ञानवापी ब्रिटिश प्रशासन, विदेशी विशेषज्ञों की नज़र में

ज्ञानवापी के चलते उत्तर भारत में हुए सांप्रदायिक दंगे, बिशप रेजिनल्ड हेबर के साक्ष्य, पुरातत्त्वविद एमए शेरिंग के तर्क, इतिहासकार एडविन ग्रीव्स के लेखन पर लेख

मौनी अमावस्या व्रत का पालन क्यों, कैसे करें

वैसे अमावस्या विवाह, मुंडन, गृहप्रवेश आदि के लिए शुभ नहीं होता, पर पूर्वजों की सद्गति हेतु पूजा, हवन और यहाँ तक कि पिंडदान भी मौनी अमावस्या को किया जाना चाहिए

Know how ‘putra’ in mantra is not necessarily a son

Based on either scriptures or Sanskrit vocabulary, the contention that seeking a putra or praying for the well-being of one shows a gender bias is misplaced

वाल्मीकि रामायण के 9 श्लोक जिनका मंत्र-समान प्रयोग हो सकता है

वाल्मीकि रामायण में किसी पात्र ने श्रीराम की शक्ति का आवाहन किया, कहीं माता सीता की महिमा बताई, संसार को परिभाषित किया या प्रभु ने स्वयं जीवनमूल्य सिखाए

रथ सप्तमी का महात्म्य, पर्व की प्रथाएँ, 2024 की तिथि

रथ सप्तमी के दिन सूर्यदेव सात घोड़ों वाले अपने रथ को सारथी अरुणा के साथ उत्तरी गोलार्ध की ओर उत्तर-पूर्व दिशा में मोड़ते हैं जिससे ऋतु परिवर्तन होता है

कालाष्टमी ऐसे मनाएँ — महात्म्य, तिथि, समय, अनुष्ठान

शिव-स्वरूप भगवान् कालभैरव की महिमा, 2 फरवरी 2024 को कालाष्टमी कितने बजे से कितने बजे तक रहेगी, तिथि में पूजा के लिए अनुष्ठान आदि आवश्यक सूचनाएँ

Why Stitched Clothes Not Worn While Performing Vedic Rituals

Hindu practices such as clothes, accessories, ornaments and symbols generally are not constrained in sampradayas of Brahmana, but…

More like this

Jhatka, not halal, food for non-veg Hindu: Giriraj Singh

If Asaduddin Owaisi urges Muslims to adhere to Islam and there is no controversy, why should there his appeal to Hindus to be religious cause a furore, the BJP MP asks in the context of jhatka

Hindu girls raped wherever demographics change: Bengal BJP head

Sukanta Majumdar warns Hindu women across Bengal to not drop their guard, believing Sandeshkhali is a distant story, as it may be their neighbourhood's turn next

INC government in Karnataka levies tax on temples

President of Karnataka BJP Vijayendra Yediyurappa said that the INC government intended to implement anti-Hindu measures to replenish its empty coffers